ⓘ कन्हैयालाल माणिकलाल मुन्शी

                                     

ⓘ कन्हैयालाल माणिकलाल मुन्शी

कन्हैयालाल माणिकलाल मुन्शी भारत के स्वतन्त्रता सनग्राम सेनानी, राजनेता, गुजराती एवम हिन्दी कऽ ख्यातिनाम साहित्यकार तथा शिक्षाविद छल । ओ भारतीय विद्या भवन कऽ स्थापना केलक।

                                     

1. परिचय

कन्हैयालाल मुन्शी कऽ जन्म भड़ौच, गुजरात कऽ उच्च सुशिक्षित भागर्व ब्राह्मण परिवारमे भेछल । एक प्रतिभावान विद्यार्थीक तौपर मुन्शी कानून कऽ पढई केलक। विधि स्नातक कऽ पश्चात हुनका मुम्बईमे वकालत केलक। एक पत्रकार कऽ रूपमे सहो सफल रहल । गान्धी जीके साथ १९१५ मे यंग इंडिया के सह-सम्पादक बनल । कई अन्य मासिक पत्रिका कऽ सम्पादन केलक। ओ गुजराती साहित्य परिषद मे प्रमुख स्थान पावलक आ अपन कुछ मित्र कऽ साथ १९३८ अन्त मे भारतीय विद्या भवनस्थापना केलक। ओ हिन्दीमे ऐतिहासिक आ पौराणिक उपन्यास कहानी लेखक कऽ रूपमे प्रसिद्ध अछि, हुनका प्रेमचन्द क साथ हंस कऽ सम्पादन दायित्व सेहो सम्भालाक। १९५२ सँ १९५७ तक ओ उत्तर प्रदेश कऽ राज्यपाल रहल । वकील, मन्त्री, कुलपति आ राज्यपाल जहिना प्रमुख पर्दा पर कार्य करैत ओ ५० सँ अधिक पुस्तक लिखक । एहिमे उपन्यास, कहानी, नाटक, इतिहास, ललित कलाएँ आदि विषय शामिल अछि। १९५६ मे ओअखिल भारतीय साहित्य सम्मेलन कऽ अध्यक्षता सेहो भेल ।

                                     

1.1. परिचय प्रमुख कार्य

  • १९४८- सोमनाथ मन्दिर कऽ जीर्णोद्धार
  • १९४६- उदयपुर मे अखिल भारत हिन्दी साहित्य परिषद कऽ प्रमुख
  • १९३८- करांची मे गुजराती साहित्य परिषद प्रमुख
  • १९३०- भारतीय राष्ट्रीय कोंग्रेस मे प्रवेश
  • १९३८- भारतीय विद्याभवन की स्थापना
  • १९४८- भारतनुं बंधारण समिति कऽ सदस्य
  • १९२५- मुंबइ धारासभामे चुनल गेल
  • १९२६- गुजराती साहित्य परिषदना बंधारणना घडवैया
  • १९५२-५७ उत्तर प्रदेश कऽ राज्यपाल
  • १९३७-३९ – मुंबई राज्य के गृहमंत्री
  • १९४८- हैदराबाद भारत मे विलयमे महत्वपूर्ण भूमिका
  • १९२२- ‘गुजरात’ मासिक कऽ प्रकाशन
  • १९३०-३२ – स्वातंत्र्य संग्राम मे भाग लऽ के कारण कारावास
  • १९५४- विश्व संस्कृत परिषद की स्थापना आ प्रमुख
  • १९१२ – ‘भार्गव’ मासिक कऽ स्थापना
  • १९५९ - ‘समर्पण’ मासिक का प्रारम्भ
  • ‘वीसमी सदी’ मासिकमे प्रसिद्ध धारावाहिक नवलकथा लिखा
  • १९६०- राजनीति सँ सन्यास
  • १९५७- राजाजी कऽ साथ स्वतंत्र पार्टी के उपप्रमुख
  • १९४२-४६- गान्धीजी साथ मतभेद आ कोंग्रेस त्याग आ पुनः प्रवेश
  • १९३३- कोंग्रेसना बंधारणनुं घडतर
  • १९१५-२० होमरुल लीग’ कऽ मन्त्री
  • १९०४- भरूच मे मफत पुस्तकालय कऽ स्थापना